10 साल बाद बिजली का ट्रांसफार्मर लगने से कच्ची बस्ती को मिली राहत

by Arvind, Unnati- Jodhpur

जोधपुर नगर निगम के प्रताप नगर क्षेत्र में स्थित कच्ची बस्ती ‘एकलव्य भील बस्ती’ में बिजली का पावर पूरा नहीं मिलने के कारण एक हजार से अधिक परिवार लगभग 10 साल से समस्याएं झेलते रहे हैं। इस समस्या के समाधान हेतु कच्ची बस्ती सुधार समिति ने 28 मार्च 2014 से प्रयास शुरू किये। निरन्तर प्रयासों के फलस्वरूप 25 अप्रेल 2014 को ट्रांसफार्मर (315 केवीए) लग जाने से कच्ची बस्ती और इससे जुड़ी अन्य बस्तियों के एक हजार से अधिक परिवारों को राहत मिली।

एकलव्य भील बस्ती सुधार समिति के अध्यक्ष श्री जगदीष देवपाल ने बताया कि गर्मियों में चलते पंखे की पंखुडि़या गिनी जा सकती थी, टी. वी. नहीं देख पाते थे। पानी की मोटर या अन्य उपकरणों को उपयोग ही नहीं कर पाते थे। इस क्षेत्र के जागरूक एवं सक्रिय नागरिक श्री सलीम पिसांगना ने बताया कि इससे पहले कई बार नागरिकों ने कोषिषें की थी। करीब डेढ़ साल पहले की कोषिषों में खम्बे लाने के लिए जन सहयोग से 2 हजार रू. खर्च किये गये। ट्रांसफार्मर के लिए 2 खम्बे लग भी गये थेे, तीसरा खम्बा मस्जिद के पास लगाने की तैयारी हो रही थी, लेकिन कुछ घरों के ऊपर से तार जाने की सम्भावना को देखते हुए नागरिकों का विरोध होेने लगा। विरोधी पक्ष के नागरिकों ने तीसरे खम्बे के लिए खुदे गड्ढ़े को खुद ही बन्द कर दिया। विवादास्पद स्थितियों में यह मामला यहीं रूक गया।

इस बार सुधार समिति के प्रतिनिधियों ने ट्रांसफार्मर लगवाने के लिए 28 मार्च 2014 को अतिरिक्त जिला कलक्टर एवं विद्युत विभाग के मुख्य अभियन्ता से सम्पर्क किया। अप्रेल के प्रथम सप्ताह में सहायक अभियंता ने विजिट करके ट्रांसफार्मर लगाने की कार्यवाही शुरू कर दी। कार्यवाही के दौरान पूर्व की विवादास्पद स्थितियों को मद्देनजर रखते हुए अन्यत्र तीसरा खम्बा लगवाया गया। हालांकि तीसरे खम्बे के प्रस्तावित स्थल के पास स्थित घर के निवासी ने भी इसका विरोध किया। सम्बन्धित निवासी को समिति के प्रतिनिधियों द्वारा सबकी समस्याओं के समाधान की दुहाई तथा अधिकारियों द्वारा करंट या अन्य किसी प्रकार की समस्या नहीं आने का आष्वासन देकर समझाया गया। नागरिकों से सौहार्दपूर्णं बातचीत के लिए अनेक अनौपचारिक मुलाकातें की गई। इस समझाइष की प्रक्रिया में लगभग 15 दिन का समय लगा। सबकी सहमति के बाद अन्ततः ट्रांसफार्मर लगा और पिछले 10 साल की समस्या का समाधान हो गया। विद्युत विभाग से इस दौरान हुए सम्पर्क की मुख्य उपलब्धि यह रही कि बिजली से जुड़ी अन्य छोटी-मोटी समस्याओं के समाधान के लिए भी नागरिकों, सुधार समिति और विभागीय अधिकारियों के बीच आपसी सामंजस्य बना हुआ है। कुछ घरों के ऊपर से जा रहे बिजली के तार के हटवाने जैसी कार्यवाहियां अभी भी जारी है। विभागीय स्तर पर त्वरित कार्यवाही से उत्साहित होकर नागरिकों ने अधिकारियों के लिए 23 मई 2014 को सम्मान समारोह भी आयोजित किया। इस सम्बन्ध में नगर के प्रमुख समाचार पत्रों ने भी इस समारोह की खबर को प्रमुखता से प्रकाषित कर इस प्रकार के समुदाय एवं अधिकारियों के सामंजस्य की प्रक्रिया की सराहना की।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: