शहरी गरीबी एवं शहरी अभिशासन, संभाग स्तरीय परिचर्चा -छत्तीसगढ

दिनंाकः26/02/2014

2011 की जनगणना के अनुसार भारत में 31.16 प्रतिशत आबादी शहरो में निवास करती है, अगर छत्तीसगढ की बात करे तो राज्य की कुल जनसंख्या का 23.24 प्रतिशत हिस्सा शहरी जनसंख्या है, परंतु आज भी राजनैतिक इच्छा शक्ति के अभाव में उस आबादी को गुणवत्तापूर्ण सुविधाऐं नही मिल रही।राजनैतिक पार्टीया अपने चुनावी एजेण्डे में ज्यादातर ग्रामीण क्षेत्रो के विकास पर ज्यादा बल देते है परंतु शहरी विकास का जिक्र भी उनके घोषणापत्रो में नही होता। राजनितिक पार्टीयों का “शहरी अभिशासन एवं शहरी गरीबी” से संबधित मुद्दे पर ध्यान आकृष्ठ करने एवं उन मुद्दे को पार्टीयो के घोषणापत्रो में शामिल करवाने कि दिशा में प्रिया एवं अन्य सहभागी संस्थाओं द्वारा देश एवं राज्य के विभिन्न शहरों मे ंचुनाव-पूर्व राजनितिक जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है।

इसी अभियान के तहत प्रिया-रायपुर एवं शिखर युवा मंच, बिलासपुर के संयुक्त तत्वाधान में ‘‘शहरी अभिशासन एवं शहरी गरीबी’’ विषय पर एक दिवसीय संभाग स्तरीय परिचर्चा का आयोजन बिलासपुर के उद्योग भवन में किया गया जिसमें विभिन्न राजनितिक दलों के साथ साथ स्वयंसेवी संस्थाओं से जांजगीर-चांपा, कोरबा, रायगढ़ व बिलासपुर के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिये।

परिचर्चा के शुरूवात में शिखर युवा मंच के भूपेश वैष्णव ने सभी प्रतिभागियो का स्वागत किया। प्रिया के राज्य प्रभारी महेश धांडोले ने अभियान की रूपरेखा एवं अभियान के संचालन के बारे मे ंविस्तार से बताया। तत्पश्चात प्रिया की दिपिका तिवारी द्वारा अपने प्रस्तुतीकरण में छत्तीसगढ़ राज्य में शहरी परिदृश्य पर प्रकाश डालते हुए बताया कि 2001 में छत्तीसगढ़ राज्य की कुल जनसंख्या 2.08 करोड़ थी जो 2011 में बढ़कर 2.5 करोड़ हो गई लगभग 59.3 लाख की आबादी शहरी क्षेत्र में निवासर्त है जो राज्य की कुल जनसंख्या का 23.24 प्रतिशत है। पिछले 10 वर्षों में राज्य की जनसंख्या 41.83 प्रतिशत की दर से बढ़ी है। छत्तीसगढ़ राज्य में शहर में निवासरत कुल परिवार में से 31.9 प्रतिशत परिवार झुग्गी बस्ती में निवासर्त है। साथ हि उन्होने शहरी गरीबो कि आवाज को सशक्त करने कि दिशा मे किये जा रहे प्रयास एवं उससे संबधित मुद्दे पर भी जानकारी दि।

परिचर्चा में उपस्थित काॅंग्रेस के जिला अध्यक्ष रविन्द्र सिंह ने अपने उद्बोधन में स्वास्थ्य, शिक्षा के मुद्दे को शहरी गरीबी से जोड़ते हुए सभी स्वयंसेवी संस्थाओं को अपनी भूमिका सुनिश्चित करने की बात कही। उन्होंने शहरी गरीबी के मुद्दों को पार्टी के घोषणा पत्र में शामिल कराने कि बात कही एवं सभी लोगो ंसे इस तरह के मुद्दों को अवगत कराते रहने कि बात कही।

cg1
भाजपा के मंडल महामंत्री धीरेन्द्र केशरवानी ने योजनाओं की क्रियान्वयन पर जोर देते हुए कहा कि शहरी युवाओं का ेभी कौशल उन्नयन कार्यक्रम में शामिल कराने हेतु जागरूकता लाने कि बात कही।आम आदमी पार्टी के जिला सचिव सुनील चिपड़े ने बजट पर चर्चा करते हुए कहा कि आज युवाओं को स्वरोजगार एवं ऐसे रोजगार से जोड़ा जाना चाहिये जो निरंतर उस रोजगार की उत्पादकता में वृद्धि करे। साथा ही उन्होंने आश्वस्त किया कि पार्टी के घोषणापत्र में मोहल्ला सभा को सशक्त करने की दिशा में सुझाव सम्मिलित करने कि बात कही।

कांग्रेस के व्यापारी प्रकोष्ठ के अध्यक्ष राजीव अग्रवाल ने युवाओं को स्वरोजगार से जोड़कर कुशल छत्तीसगढ़ बनाने की बात कही। उन्होंने समस्या का समाधान यदि हमारे एजेण्डे में शामिल करने से लाभ होगा तो निश्चित ही शामिल करेंगे। सामाजिक कार्यकर्ता नमिता घोष ने गरीबी उन्मूलन के मुद्दों को गंभीरता से रखी। कार्यक्रम का आभार प्रदर्शन शिखर युवा मंच के सचिव धनंजय अनुपम द्वारा किया गया।

cg3

बस्ती से उपस्थित बस्ती विकास समिति के सदस्यों ने भी अपने मुद्दों पर राजनितिक पार्टि से आयें अतिथियों का ध्यान अकृष्ट करते हुए अपनी मागों को घेाषणापत्र में शामिल करने कि मागॅ की। अन्ततः यह सभी राजनितिक दलों के प्रतिनिधियों द्वारा आश्वासन दिया गया की ज्ञापन के रुप में सभी मुद्दों को सुचिबद्द कर उन्हे सौंपा जाऐं ताकि वे अपनी पार्टि के समक्ष शहरी गरीबी के मुददों को एक पृथक ऐजेंडे के रुप में शामिल करने की मागॅ कर सकें।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: